November 29, 2015

कश्मीर ..



मेरे अधरों पे गंगाजल नहीं
चेनाब का पानी रखना ..

अगले जन्म मैं कश्मीरी बनूँगी
मेरा नाम तुम हिन्दुस्तानी रखना ..

खुशबू जब हिस्सों में बंटेगी
मेरे हिस्से में तुम जाफ़रानी रखना ..

जब पहाड़ों पर सफ़ेद शीन उतरेगी
मस्जिद में गुरुओं की बानी रखना ..

ठन्डे पत्थरों को न ज़मीन से उखाड़ा जाए..
अपने खून में तुम इंक़लाब ऐ रवानी रखना ..

और जब मेरी आँखें जीर्ण हो जाएँ
मेरे जिस्म पर मेरे वतन की कहानी रखना ..

 

14 comments:

Chhavi G. said...

Bahut hi Sunder .... awesome !!

Chhavi G. said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Vidisha Barwal said...

bahaut hi sundar! shine on!

Rajesh Singh said...

बहुत बढिया और संवेदनशील

Rajesh Singh said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Anuradha Sharma said...

Thank you, Chhavi ..

Anuradha Sharma said...

Thank you Vidisha :)

Anuradha Sharma said...

Thank you Rajesh :)

Ankita Chauhan said...

Speechless :)

Shikha saxena said...

बहुत ही खूबसूरत :)

KZ said...

Beautiful Expression!

Archana Aggarwal said...

It is marvellous

rahul shabd said...

ये बेहद खूबसूरत है।
वाह

Atul Prakash Trivedi said...


अगले जन्म मैं कश्मीरी बनूँगी
मेरा नाम तुम हिन्दुस्तानी रखना ..