October 31, 2012

In aankhon mein aaj..

In aankhon mein aaj..

Do raat ki baasi neendein hai..
Kuchh khwaabon ka chuura .. 
Ek dil tootne ki aawaaz .. 
Aur ek chaand adhuura.. 

Bediyon se sawaal hain.. 
Aadhe adhhure jawaab hain.. 
Udhde udhde kisse hain.. 
Aur ek kadwi si sharaab hai.. 

 Duniya hai dard hain.. 
Ek puraana mausam zard hai.. 
Raat ka sannaata hai.. 
Tanhaayi bahut hi sard hai..

Ek udaas si baarish hai..
Waqt ki tez saazish hai.. 
Hum bhi ro lein do pal ke liye.. 
Badi maasoom si khwaaish hai.. 

Nigaah ke har panne par tere nishaan hain..
Sehme sehme sapno ka khaali khaali makaan hai..
In aankhon mein aaj ..
Bahut saare nanhe mehmaan hain.. 


2 comments:

Gurnam Singh Sodhi said...

हल्की सी खनक है,
ताज़ी ताज़ी चमक है,
बासी नींदों के सपनो की एक रोशन सी दमक है,
इसे पढ़ के मेरी आखों में..

इक ख्याल है,
कुछ सवाल है,
कैसे सोचते हो, क्या लिखते हो,
कमाल ही कमाल है,
इसे पढ़ के मेरी आखों में..

खुशकिस्मत है वो जो इन्हें पढ़े,
इनमे जो सपने हैं उनसे जुड़े,
किस चीज़ को क्या देखती हैं
इसमें छुपे कई राज़ हैं,

आपकी आखों से देखने की इक चाह है,
इसे पढ़ के मेरी आखों में....

Aruna @arunapk57 said...

Shared this poem on my facebook page.